फिटर किसे कहते हैं | ITI Fitter Course Details In Hindi

Fitter Course

फिटर किसे कहते हैं | ITI Fitter Course Details In Hindi | आईटीआई फिटर कोर्स क्या होता है | आईटीआई फिटर कोर्स कैसे करें

फिटर किसे कहते हैं | आईटीआई फिटर कोर्स क्या होता है | आईटीआई फिटर कोर्स कैसे करें

www.Jobcutter.com

ITI Fitter Course Detail in hindi

आजकल कई छात्र 10वीं पास करने के बाद ही ITI FITTER course करना चाहते हैं लेकिन उन्हें यह नहीं पता होता है कि ITI FITTER course क्या होता है। उन्हें कोई समझाने वाला नहीं होता है कि यह course को करने से आप क्या बन सकते हैं और इस course को करने से हमें क्या लाभ मिलते हैं,आज हम ITI FITTER course के बारे में बात करेंगे। अगर आप भी आईटीआई के फिटर ट्रेड में एडमिशन लेना चाहते हैं और फिटर के बारे में पूरी जानकारी जानना चाहते हैं तो हम इस आर्टिकल के द्वारा आपको पूरी जानकारी देने जा रहे है .

यहां पर आपके फिटर ट्रेड से जुड़े हुए जितने भी सवाल हैं उसे हम इस आर्टिकल के द्वारा आपको बताएंगे तो अब आपके मन में सवाल होगा कि आईटीआई फिटर क्या है फिटर कोर्स करने के बाद हम जॉब कैसे हासिल करें फिटर कोर्स में प्रवेश कैसे लें तो इन सभी की जानकारी इस आर्टिकल के माध्यम से आप को शेयर करेंगे.

ITI Fitter trade kya hai 

फिटर ट्रेड मैकेनिकल इंजीनियरिंग से जुड़ा हुआ कोर्स है मशीनों, यंत्रों के पुर्जों आदि की कटिंग, फिटिंग तथा निर्माण एवं मरम्मत करने वाले मिस्त्री को फिटर कहते हैं। जोकि कैपिटल गुड्स एंड मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर के अंतर्गत आता है और यह आईटीआई ट्रेड का एक लोकप्रिय ट्रेड है सामान्य भाषा में फिटर ट्रेड या फिर वह व्यक्ति होता है जो किसी भी जी चीज को जोड़ने का कार्य करता है यानी कि बहुत सारे पार्ट को आपस में मिलाकर एक प्रोडक्ट बनाता है उसे फिटर कहते है। भारत में जितने भी बड़ी बड़ी मल्टीनेशनल कंपनियां है मैन्युफैक्चरिंग कंपनी है उन सभी में fitter की आवश्यकता होती है और उन सभी में काम करने वाले व्यक्ति आईटीआई फिटर ट्रेड से ही होते हैं जो की हर छोटे-छोटे पार्ट मिलाकर ही एक बड़ी मशीन बनती है

इसमें आपको अलग-अलग तरह की Fittings के बारे में बताया जाता है यह एक Mechanical Branch है। जो कि हमें अलग-अलग तरह के Pipes Fitting, Structure Fitting ओर Machine Fitting के बारे में knowledge देता है। इस कार्य को करने के लिए फिटर ट्रेड के ही स्टूडेंट की जरूरत होती है और फिटर ट्रेड वाले ही उस कार्य को बेहतरीन तरीके से कर सकते हैं Fitter में आमतौर पर मॉडल का कार्य करना होता है जिसमें मशीन के पुर्जो को काटना और फिर उसको आपस में गिनके जोड़ना जैसा काम फिटर ट्रेड के अंतर्गत किया जाता है।

More Details

Fitter Common Hand Tools Name In Hindi Information – Click Here

Carpenter Tools Name In Hindi | Chisel, Hand Drill Machine, Claw Hammer – Click Here

ITI Electrician Course Details In Hindi | इलेक्ट्रीशियन क्या होता है ? – Click Here

ITI Electrician Tools ITI Electrical Tools Technician Tools – Click Here

ITI Fitter full form क्या है?

FFitenssशारीरिक रूप से सुदृढ़
IIntelligentमानसिक रूप से बुद्धिमान
TTalentedकार्य सीखने की योग्यता
TTargetलक्ष्य को पाने का इच्छुक
EEfficientकार्य करने में कुशल
RRegularityनियमितता
Fitter Course Details In Hindi

ITI Fitter course ki jankari In Hindi

आप समझ गए होंगे कि फिटर क्या होता है या आईटीआई फिटर कोर्स क्या होता हैं यानी कि फिटर कोर्स में 75 पर्सेंट कार्य को हाथों से करना पड़ता है तथा 25 परसेंट कार्य को मशीनों के द्वारा किया जाता है.

Fitter course कितने साल का होता है 

आईटीआई फिटर कोर्स 2 साल का कोर्स होता है फिटर में theory के साथ प्रैक्टिकल का कार्य भी बहुत कराया जाता है यानी कि प्रैक्टिकल वर्क पर ज्यादा ध्यान दिया जाता है. जिसे कोई भी बच्चा आसानी से कर सकता है।

ITI Fitter Subject कितने होते है ?

ITI FITTER में पांच विषय होते हैं?

1. Professional Skill (Trade Practical)

Trade Practical में आपको Sheet Metal, Welding, Drilling Safety और  Precautions, Hand tools और Machining, Necessities of Forging Process, Miscellaneous Sheet metal Processes, Chipping, Hacksawing आदि के बारे में बताया जाता है।

2. Professional knowledge (Trade Theory)

इसमें आपको Trade Introduction, Safety Precautions, Measurement और Measuring Instruments, Common Hand Tools, Marking और Marking Tools, Properties of Metals, Drilling Machine, Forging

Heat Treatment, Sheet Metal Work, Solder Welding, Drill, Reaming, Screw, Threads, Grinding, Interchangeability, Metals, Scraping, Precision Measuring Instruments, Plant Maintenance, Assembly और इससे related कई techniques के बारे में पढ़ाया जाता है।

3. Engineer Drawing

इसमें आपको Free Hand Drawing, Symbolic Presentation, Lines, Drawing instruments, Construction of Scale and Diagonal Scale, Scale, Drawing of solid, Shapes, Orthographic, Projection,

Orthographic Drawing of a Simple Fastener, Draw Details of Simple Melting Blocks, Vice Assembly, Reading of Drawing, Freehand Sketch of Mechanical Machine Parts, Practical of Trade-Related Symbols, Study of Drawing और Estimation Material के बारे में बताया जाता है।

4. Workshop Science And Calculation

इसमें आपको Algebra, Mensuration, Trigonum Calculation-Algebra Dry, Heat और Temperature, Basic Electricity, Levers और Simple Machines

Units, Fraction, Square Root, Ratio और Proportion, Percentage, Material Science, Mass, Weight और Density, Speed और Velocity, Work, Power और Energy के बारे में बताया जाता है।

5. Employability Skills

इसमें आपको English literacy, Information technology literacy, Communication skills और भी कई सारी चीजें पढ़ाई जाती है।

ITI Fitter कोर्स के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए ?

आईटीआई फिटर कोर्स को करने के लिए उम्मीदवार को दसवीं कक्षा में विज्ञान और गणित विषय होना अनिवार्य है इसके साथ-साथ 10+2 यानी कि 12वीं की परीक्षा उत्तीर्ण करना बहुत ही जरूरी है किसी भी मान्यता प्राप्त स्कूल से 12वीं पास जरूरी है।

ITI Fitter course age limit कितनी होती है ?

आईटीआई के फिटर ट्रेड में एडमिशन लेने के लिए आवेदक की न्यूनतम आयु 14 वर्ष होनी चाहिए और अधिकतम आयु 40 वर्ष होना चाहिए जाति वर्ग जैसे एससी एसटी ओबीसी कैटेगरी के हिसाब से आयु सीमा में भी छूट दिया जाता है।

Iti fitter मे admission कैसे ले 

आईटीआई फिटर ट्रेड दो तरह से किया जा सकता है सरकारी कॉलेज और प्राइवेट कॉलेज दोनों तरह के कॉलेज से आप आईटीआई फिटर ट्रेड को कर सकते हैं।  

Fitter का क्या कार्य होता है फिटर कोर्स में क्या सिखाया जाता है 

फिटर कोर्स में पाइप फिटिंग, ड्रिलिंग, बिल्डिंग निरीक्षण करना, नापाई का काम कराया जाता है इसमें विभिन्न तरह के विघटन और संयोजन करना, मशीन टूल्स की सटीकता का परीक्षण करना बताया जाता है मशीन की छोटी मोटी मरम्मत कैसे करेंगे बोल्ट के साथ कैसे असेंबल करेंगे इस तरह के कार्य को fitter में सिखाया जाता है।  

Fitter के बाद क्या करे

ITI Fitter Course

फिटर कोर्स को करने के बाद आप तुरंत नौकरी नहीं करना चाहते हैं तो आप अपने आगे के पढ़ाई को भी जारी रख सकते हैं आप इंजीन्यरिंग के बड़े कोर्स में भी प्रवेश ले सकते हैं नेशनल अप्रेंटिस सर्टिफिकेट्स के लिए आप विभिन्न प्रकार के उद्योगों में अप्रेंटिस प्रोग्राम में शामिल हो सकते हैं engineering की कई शाखाओं में डिप्लोमा कोर्स में प्रवेश ले सकते हैं.

फिटर के बाद करियर

जब आप फिटर कोर्स को पूरा कर लेगे तो आपके पास फिटर का सर्टिफिकेट होगा जिसकी मदद से आप किसी भी सरकारी या प्राइवेट कंपनी में फिटर संबंधित नौकरी कर सकते हैं।
जैसा की हम हम सभी जानते हैं कि किसी भी कंपनी में विभिन्न प्रकार की मशीनों के निर्माण और मरम्मत के लिए एक कुशल फिटर मेकेनिक की बहुत जरूरत होती है, क्योंकि एक फिटर ही मशीनों के कलपुर्जों का निर्माण और मरम्मत कर सकता है। अर्थात अगर आप फिटर कोर्स पूरा कर लेते हैं तो आपको नौकरी के अवसर बहुत बढ़ जायेंगे।

ITI Fitter की Salary कितनी होती है?

वैसे तो हमारी salary हमारे काम के ऊपर base होती है और वैसे देखा जाए तो हर कंपनी की अपनी अपनी अलग-अलग सैलरी होती है। आपकी सैलरी आपकी योग्यता पर आधारित होती है।

जिस तरह का काम आप करते हैं आपकी सैलरी भी आपको उसी के आधार पर मिलती है मगर फिर भी हम यह कह सकते हैं कि ITI FITTER की सैलरी कम से कम प्रतिमाह में 10000 से 15000 के बीच में होती हैं।

ITI FITTER करने के बाद हम कौन-कौन सी Govt. job के लिए Apply कर सकते हैं?

ITI FITTER करने के बाद हम नीचे दी गई post में से कोई भी post के लिए apply कर सकते है।

  • ONGC
  • BHEL
  • NTPC
  • Municipal Corporations
  • Hydropower plants
  • Thermal power plants
  • Nuclear power plants 
  • Indian Oil
  • Indian Railway
  • Electricity Departmen

सुरक्षा सावधानियाँ (Safety & Precautions)

  1. स्वयं की सुरक्षा  (Self Safety)
  2. औजारों की सुरक्षा (Tool Safety)
  3. मशीन की सुरक्षा (Machine Safety)
  4. विद्युत संबंधी सावधानियां (Electrical Safety)
  5. सामान्य सुरक्षा (General Safety)

 स्वयं की सुरक्षा(Self Safety) 

1. वर्कशॉप में कार्य करते समय जूतों का प्रयोग करना चाहिए। 
2. वर्कशॉप में कार्य करते समय ढीले कपड़े नहीं पहनने चाहिए, केवल टाइट यूनिफार्म होनी चाहिए।
3. वर्कशॉप में कार्य करते समय घड़ी, टाई, चैन, बेल्ट आदि नहीं पहनना चाहिए।
4. जिस मशीन के बारे में आपको जानकारी नहीं है, उस मशीन को चालू नहीं करना चाहिए।
5. चलती हुई मशीन की मरम्मत नहीं करनी चाहिए।
6. वर्कशॉप के अंदर अगर चश्मा, हेलमेट आदि उपलब्ध है, तो उनका प्रयोग जरूर करना चाहिए।
7. कार्यशाला में कार्य करते समय किसी साथी के साथ साथ हंसी-मजाक बिल्कुल नहीं करनी चाहिए।
8. चालू मशीन या चालू इंजन के नीचे काम करने के लिए नहीं घुसना चाहिए।
9. मशीन या इंजन पर कार्य करते समय अपनी शर्ट की बाहे ऊपर कर लेनी चाहिए।

 औजारों की सुरक्षा(Tool safety) 

1. कार्यशाला में काम करने से पहले सभी औजारों के बारे में पूरी तरह जानकारी होनी चाहिए ।
2. नापने वाले(measuring tool) या फिर काटने वाले(cutting tool) औजारों को एक साथ नहीं रखना चाहिए।
3. औजारों को उपयोग में लेने से पहले ओर बाद में उन्हें अच्छे तरीके से साफ करके रखना चाहिए।
4. औजारों को ग्रीस और तेल इत्यादि में नहीं लगाना चाहिए
5. यदि किसी औजार की जरूरत नहीं है, तो उसे टूल बस में रख देना चाहिए।
6. बिना हैंडल वाले औजारों का उपयोग नहीं करना चाहिए।
7. खराब औजारों को काम में नहीं लेना चाहिए।

 मशीन की सुरक्षा(Machine Safety) 

1. जिस मशीन को हमें चालू करना है, उसके बारे में हमें पूरी जानकारी होनी चाहिए।
2. वर्कशॉप में रखी हुई मशीनों को हमें प्रतिदिन साफ करना चाहिए, ताकि वह सुरक्षित रहे और खराब नहीं हो।
3. जिस मशीन को लुब्रिकेशन की आवश्यकता है, उसके लुब्रिकेशन का पूरा ध्यान रखना चाहिए और जिस मशीन में कूलिंग की आवश्यकता है, उसमें कूलिंग का ध्यान रखना चाहिए।
4. बिना जरूरत मशीन को नहीं चलाना चाहिए।
5. चालू मशीन को छोड़कर नहीं जाना चाहिए।
6. जिस मशीन में से आवाज आती है। या फिर कोई नट बोल्ट लूज़ है, तो हमें उसे आवश्यकतानुसार टाइट कराना चाहिए।
7. मशीन पर कार्य करते समय यह पता होना चाहिए की मशीन सही से कार्य कर रही है या फिर नहीं और अगर नहीं कर रही तो उसकी मरम्मत करानी चाहिए।
8. आवश्यकतानुसार मशीन पर डेंजर खतरा लिखा होना चाहिए या फिर लिख देना चाहिए।
9. कार्यशाला में लगी मशीनों पर सुरक्षा कवच लगा होना चाहिए। 

ITI Fitter full form

Join Our Telegram 👉 Click Here

Leave a Comment

error: Content is protected !!